छात्राओं और शिक्षिकाओं का तालिबान से स्कूल खोलने का आग्रह

अफगानिस्तान में शिक्षकों और छात्राओं ने तालिबान से आग्रह किया है कि वह किशोरियों के लिए स्कूलों को फिर से खोल दें। सत्ता पर तालिबान के कब्जे के बाद लड़कियों के लिए स्कूल लगभग दो महीनों से बंद हैं।

छात्राओं और शिक्षिकाओं का तालिबान से स्कूल खोलने का आग्रह

काबुल। अफगानिस्तान में शिक्षकों और छात्राओं ने तालिबान से आग्रह किया है कि वह किशोरियों के लिए स्कूलों को फिर से खोल दें। सत्ता पर तालिबान के कब्जे के बाद लड़कियों के लिए स्कूल लगभग दो महीनों से बंद हैं।

स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार अफगानिस्तान में केवल तीन प्रांतों बल्ख, कुंडूज और सरी पुल में ही लड़कियों के स्कूल खोले गए हैं।

उल्लेखनीय है कि सोमवार को संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतरेस ने कहा था कि तालिबान ने अफगानी महिलाओं और लड़कियों से किए सभी वादे तोड़ दिया है। उन्होंने अपील की कि अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार कानून ( इंटरनेशनल ह्यूमन राइट्स लॉ) के तहत किए गए वादे को तालिबान पूरा करे। इस बीच, यहां 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली मदीना की इच्छा है कि स्कूलों को फिर से खोला जाए। वो कहती है कि वह स्कूलों के फिर से खुलने को लेकर आशावान है।

पेशे से शिक्षक अशोकुल्लाह कहते हैं कि लड़कियों के पास भी शिक्षा का अधिकार है। स्कूलों को फिर से खोल दिया जाना चाहिए। सरकार बदलने से समाज के एक बड़े हिस्से महिलाओं को प्रभावित नहीं होना चाहिए।