चीन में बिजली संकट से प्रमुख शहरों में छाया अंधेरा, औद्योगिक उत्पादन बुरी तरह प्रभावित

चीन में बिजली संकट के चलते सबकुछ अस्त व्यस्त हो गया है। राजधानी बीजिंग में बिजली की भारी कटौती की जा रही है, वहीं शंघाई समेत कई बड़े शहरों में बिजली के अभाव में जीवन ठहर सा गया है।

चीन में बिजली संकट से प्रमुख शहरों में छाया अंधेरा, औद्योगिक उत्पादन बुरी तरह प्रभावित

बीजिंग। चीन में बिजली संकट के चलते सबकुछ अस्त व्यस्त हो गया है। राजधानी बीजिंग में बिजली की भारी कटौती की जा रही है, वहीं शंघाई समेत कई बड़े शहरों में बिजली के अभाव में जीवन ठहर सा गया है। चीन की आर्थिक गतिविधियों पर रोक सी लग गई है।

बिजली संकट के बीच चीन में कोयले की कीमत आसमान छू रही है और इससे थर्मल पावर प्लांट में बिजली उत्पादन घट गया है। औद्योगिक उत्पादन पर बुरा असर पड़ा है। चीन में बिजली संकट गहराने के साथ ही एशिया और यूरोप समेत दुनिया भर में सप्लाई चेन प्रभावित होने का खतरा बढ़ गया है। चीन में बनने वाले कच्चे माल समेत अन्य उपकरणों के उत्पादन में कमी से दुनिया भर की कंपनियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

चीन के स्टेट ग्रिड कार्पोरेशन ने रविवार से बीजिंग के कई क्षेत्रों में बिजली कटौती शुरू करने की बात कही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कई क्षेत्रों में बिजली कटौती शुरू हो गई है जिससे कई इलाके अंधेरे में डूब गए हैं। घरों में लोगों को मोबाइल टार्च की रोशनी में गुजारा करना पड़ रहा है।

बिजली कटौती के चलते मोबाइल चार्ज करने पर भी संकट पैदा हो गया है। करीब साढ़े चार करोड़ की आबादी वाले बीजिंग और शंघाई के आवासीय इलाकों में बिजली कटौती की योजना है। बिजली आपूर्ति बाधित होने से शंघाई से सटे जियांगशु प्रांत में एपल और टेस्ला की सप्लाई पर असर पड़ा है। गुआंगडांग प्रांत में जापानी उत्पादकों द्वारा चलाई जा रही फैक्ट्रियों पर भी असर पड़ा है।

शहरों में ट्रैफिक लाइटें बंद होने के साथ ही सड़कों पर भारी जाम लग रहा है। पानी की सप्लाई बाधित हुई है। इससे चीन की अर्थव्यवस्था को भी भारी नुकसान हो रहा है। बिजली का संकट पिछले हफ्ते से चला आ रहा है। इसकी मुख्य वजह कोयले की कीमतों में भारी उछाल बताया जा रहा है। इस समय चीन में प्रति टन कोयले की कीमत सर्वाधिक 212.92 डॉलर तक पहुंच गई है।