वानखेडे पर लगे आरोपों पर सतर्कता जांच के आदेश

स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) ने क्रूज़ जहाज से मादक पदार्थ बरामदगी मामले में आरोपी आर्यन खान को छोड़ने के लिए एनसीबी की मुंबई क्षेत्रीय इकाई के निदेशक समीर वानखेड़े और कुछ अधिकारियों द्वारा 25 करोड़ रुपये मांगने संबंधी एक गवाह के दावे पर सतर्कता जांच के आदेश दिए हैं।

वानखेडे पर लगे आरोपों पर सतर्कता जांच के आदेश

मेट्रो मीडिया ब्यूरो
मुंबई, स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) ने क्रूज़ जहाज से मादक पदार्थ बरामदगी मामले में आरोपी आर्यन खान को छोड़ने के लिए एनसीबी की मुंबई क्षेत्रीय इकाई के निदेशक समीर वानखेड़े और कुछ अधिकारियों द्वारा 25 करोड़ रुपये मांगने संबंधी एक गवाह के दावे पर सतर्कता जांच के आदेश दिए हैं। 
इस बीच, एनसीबी ने विशेष अदालत के समक्ष दाखिल हलफनामे में कहा कि वानखेड़े और अन्य अधिकारियों का सेवा रिकॉर्ड बेदाग रहा है, लेकिन वानखेड़े पर वसूली के आरोप लगाने वाले स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल के हलफनामे के संबंध में अदालत से कोई राहत नहीं मिल सकी। वहीं, अपनी जान को खतरा होने का दावा करने के बाद महाराष्ट्र सरकार ने सैल को पुलिस सुरक्षा मुहैया करायी है। 
एनसीबी के उत्तरी क्षेत्र के उप महानिदेशक (डीडीजी) ज्ञानेश्वर सिंह सतर्कता जांच करेंगे। एनसीबी और वानखेड़े ने वसूली के आरोपों को लेकर विशेष अदालत में दो अलग-अलग हलफनामे दाखिल किए। मामले में स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल ने रविवार को एक हलफनामे में और फिर पत्रकारों के सामने दावा किया था कि एनसीबी के एक अधिकारी और कुछ अन्य लोगों ने मामले में आरोपी आर्यन खान को छोड़ने के लिए 25 करोड़ रुपये की मांग की थी। 

नवाब मलिक ने वानखेड़े को बताया मुस्लिम 
राकांपा नेता मलिक ने नांदेड में एक समाचार चैनल से बातचीत में दावा किया कि वानखेड़े जन्म से एक मुसलमान हैं। उन्होंने कहा, 'एनसीबी के क्षेत्रीय निदेशक वानखेड़े का नाम 'समीर दाऊद वानखेड़े' है और वह जन्म से मुसलमान हैं। मैंने उनका जन्म प्रमाणपत्र ऑनलाइन प्रकाशित किया है। मुझे इसे ढूंढने के लिए मशक्कत करनी पड़ी । उन्होंने फर्जी प्रमाणपत्र पर आईआरएस की नौकरी हासिल की है। मैं उनके 'फर्जीवाड़े' के ऐसे और कारनामे उजागर करूंगा।'
भारतीय राजस्व सेवा के 2008 बैच के अधिकारी वानखेड़े ने मंत्री की आलोचना करते हुए कहा कि उनका यह कदम अपमानजनक और उनके परिवार की निजता पर हमला है। उन्होंने कहा कि मंत्री द्वारा बिना कोई स्पष्टीकरण दिए इस तरह के निजी अपमानजनक और निंदात्मक हमलों से वह दुखी हैं।

दिल्ली पहुंचे समीर वानखेड़े
शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से जुड़े ड्रग्स मामले की जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े आज शाम दिल्ली पहुंचे। एनसीबी की ओर से तलब होने की सुगबुगाहट पर उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है। वे दिल्ली कुछ काम से पहुंचे थे।
दिल्ली एयरपोर्ट से बाहर निकलते हुए एनसीबी के जोनल डायरेक्टर को मीडिया ने घेर दिया। पत्रकारों को जवाब देते हुए समीर वानखेड़े ने कहा कि उन्हे एनसीबी ने तलब नहीं किया है, वे यहां किसी काम के सिलसिले में पहुंचे हैं। समीर वानखेड़े ने इस बात पर भी जोर दिया कि वे क्रूज ड्रग्स की जांच का नेतृत्व कर रहे हैं और जल्द ही इस केस में नया अपडेट लेकर सामने आएंगे।

वानखेड़े सहित 6 लोगों के विरुद्ध रंगदारी मांगने की शिकायत
समीर वानखेड़े सहित 6 लोगों के विरुद्ध वकील कनिष्ठ जयंत ने आर्यन खान के अपहरण और उससे रंगदारी वसूलने मामला दर्ज करने की मांग की है। वकील कनिष्ठ जयंत ने इस संदर्भ में मुंबई के एम.आर.ए. मार्ग पुलिस स्टेशन, येलोगेट पुलिस स्टेशन सहित मुंबई पुलिस आयुक्त हेमंत नगराले को भी शिकायत पत्र दिया है। इस मामले में मुंबई पुलिस की ओर से किसी भी तरह प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।
वकील कनिष्ठ जयंत ने बताया कि जिस दिन क्रूज ड्रग पार्टी मामला दर्ज किया गया था, उस दिन एनसीबी दफ्तर में किरण गोसावी, मनीष भानुशाली, ऋषभ सचदेवा, प्रतीक गाभा, अमीर फर्नीचरवाला आदि उपस्थित थे। साथ ही किरण गोसावी व मनीष भानुशाली ने लोकसेवक की आड़ में आपराधिक गतिविधियों को भी अंजाम देते हुए रंगदारी वसूला है। इसलिए इन सभी पर आपराधिक मामला दर्ज किया जाना चाहिए।
……………..