लखीमपुर हिंसा: चारों आरोपियों के साथ पुलिस ने घटनास्थल पर किया रीक्रिएशन

प्रदर्शनकारी किसानों को कुचलने के मामले के मुख्य आरोपी गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पुत्र आशीष मिश्रा समेत चार आरोपियों को लेकर जांच टीम बृहस्पतिवार को घटनास्थल पर पहुंची। इस दौरान पुलिस ने घटना का रीक्रिएशन किया।

लखीमपुर हिंसा: चारों आरोपियों के साथ पुलिस ने घटनास्थल पर किया रीक्रिएशन

गाड़ियां दौड़ाई और पुतलों को मारी टक्कर

लखीमपुर खीरी, प्रदर्शनकारी किसानों को कुचलने के मामले के मुख्य आरोपी गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के पुत्र आशीष मिश्रा समेत चार आरोपियों को लेकर जांच टीम बृहस्पतिवार को घटनास्थल पर पहुंची। इस दौरान पुलिस ने घटना का रीक्रिएशन किया। पुलिस ने तेज गति में गाड़ियां चला कर पुतलों को टक्कर मारी। इसके बाद जांच टीम आशीष मिश्रा को लेकर उसके गांव बनवारीपुर भी गई।
हिंसा मामले में अब तक मुख्य आरोपी आशीष मिश्र मोनू समेत कुल छह आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। लिहाजा पुलिस ने जांच तेज करते हुए बृहस्पतिवार सुबह 10.15 बजे जेल में निरुद्ध तीन आरोपियों अंकित दास, गनर लतीफ उर्फ काले और ड्राइवर शेखर भारती को भी रिमांड पर ले लिया। इसके बाद टीम आरोपियों को लेकर क्राइम ब्रांच के दफ्तर पहुंची। यहां आशीष मिश्र मोनू दो दिन से मौजूद है। 
इसके बाद पुलिस चारों आरोपियों को लेकर अपराह्न एक बजे घटनास्थल यानी तिकुनिया पहुंची, जहां पुलिस बल पहले से ही मौजूद था। इस दौरान सभी आरोपियों के साथ उनके वकील भी मौजूद रहे।

राकेश टिकैत ने जांच पर जताया असंतोष
भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने लखीमपुर खीरी हिंसा के मामले में चल रही जांच पर गुरुवार को नाखुशी जाहिर करते हुए कहा कि केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र के बेटे की 'रेड कारपेट' गिरफ्तारी ने आंदोलन कर रहे किसानों के गुस्से को भड़का दिया है। अजय मिश्र को मंत्री पद से बर्खास्त करने की मांग करते हुए टिकैत ने कहा कि आरोपी के पिता अगर पद पर बने रहेंगे, तो निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती।
………………….